यह शिविर प्रथम दिवस प्रात: 10.00 बजे से प्रारम्भ होकर अंतिम दिवस सायं 5.00 बजे पूर्ण होगा।

गंभीर शिबिर (सप्त दिवसीय, आवास सहित)

विशेष: कम से कम चार दिवसीय गम्भीर शिविर किये हुए साधक ही सप्त दिवसीय शिविर में प्रवेश कर पायेंगे।

सप्त दिवसीय शिविर एक अनुपम अनुभव देता है। साधक के सभी मानसिक-आत्मीय क्लेश मूलतः नष्ट हो जाते हैं। वह संसार और परिवार के मध्य में रहकर भी जलकमवत् संसार से निरपेक्ष रहता है। सतत सहज आनंद उसका स्वभाव बन जाता है। चार दिवसीय आत्मानुभव को परिपक्क कर आत्म-ज्ञान व सम्यक्त्व को पूर्ण करने का पुरुषार्थ प्रत्यक्ष-अरिहंतों की वाणी से वीतरागता का अभ्यास।

Live Streaming

Acharya Shiv Muniji Live Streaming On Every Saturday & Sunday At 7 Am To 8 Am