गम्भीर शिविर प्रथम दिवस प्रात: 10.00 बजे से प्रारंभ होकर अंतिम दिवस सायं 5.00 बजे सम्पन्न होगा।

गंभीर शिबिर (चार दिवसीय, आवास सहित)

जिन साधकों को आत्मबोध के पश्चात्‌ की रुचि जाग्रत हो गई है, वे गंभीर शिविर में आमंत्रित हैं। बेसिक कोर्स किए हुए साधक ही चार दिवसीय शिविर में प्रवेश प्राप्त कर पाते हैं। इसमें जन्म-जन्मांतर के शुभाशुभ कर्मों का क्षय करने की विधि प्राप्त होती है। यह सम्यत्व को क्षायिक सम्यक्त्व में परिवर्तित करने का पुरुषार्थ है।

धर्मध्यान से शुक्लध्यान में प्रवेश करने की विधि प्राप्त होती है। संसार में रहते हुए भी २४ घंटे सामायिक में रहने की कला का विकास होता है। “बिन घन परत फुहार”साधक अकारण ही अहर्निश आनंद में तल्लीन रहता है।

Live Streaming

Acharya Shiv Muniji Live Streaming On Every Saturday & Sunday At 7 Am To 8 Am