Shraman Sanghiya Sadhviji

Search Shraman Sanghiya Sadhviji

Feedback/Report Error

Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input

New Registration for Sadhu / Sadhvi

Looking for the best way to get top & http://statstuff.com/?literary-analysis-essay-the-scarlet-letter! Try our custom essay writing service, Best Dissertation Writing Services Register

Sadhvi Shri Kamlesh Ji Maharaaj"Anmol"(साध्वी श्री कमलेश जी म.सा."अनमोल")

Brief Introduction

 सामान्य विवरण
Sadhvi Shri Kamlesh Ji Maharaaj"Anmol" साध्वी श्री कमलेश जी म.सा."अनमोल"
28-10-1966
 
कानपुर
कानपुर कानपुर
उत्तर प्रदेश उपाध्याय गुरुदेव कस्तुरचंद जी म.सा., साध्वी श्री ज्ञानवती जी म.सा.
जैन दिवाकर गुरुदेव श्री चौथमल जी म.सा., साध्वी श्री मदनकुँवर जी म.सा. प्रवर्तक श्री रमेश मुनि जी म.सा.
1 वर्ष 17-09-1983, नासिक ( महाराष्ट्र )
आचार्य सम्राट श्री आनन्दऋषि जी म.सा., युवाचार्य श्री मधुकर मुनि जी म.सा. साध्वी श्री विश्वास जी म.सा."अरमान"

प्रवचन प्रभाकर, आशू कवि
शास्त्री अहमदनगर से बी.ए.


बोली तो ऐसे बोली
कुछ अप्रकाशित बुक्स है।
महाराष्ट्र, राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात, कर्नाटक, आन्ध्र प्रदेश, तमिलनाडु, छतीसगढ़, पश्चिम बंगाल, सौराष्ट्र    

 

  चातुर्मास विवरण तालिका

 

   

 

  आपकी प्रेरणा से संचालित संस्था का नाम, संस्था के पदाधिकारी का नाम, पद, शिक्षा, आयु व पता
   
   
   
   
   
   

 

अन्य विवरण
कई खटिकों को जैन धर्म अनुयायी बनाया है, उन्हे वीरवाल बनाया गया है। और उनकी जगह पर चातुर्मास करके एक स्थानक का निर्माण की प्रेरणा दी। तेला, 15 उपवास, पुण्य नक्षत्र आदि
श्री कमलेश जी जैन श्रीमान बाबूराम जी जैन
श्रीमति त्रिशला देवी जी जैन
श्रीमति राजकुमारी जी, साध्वी श्री विश्वाश जी म.सा."अरमान" बहन ने दीक्षा ली ( साध्वी श्री विश्वाश जी म.सा."अरमान" )
श्रीमान ज्ञानचन्द जी राजकुमारी जी जैन
14 - C, सादुल्लापुर, पी.ए.सी. मोड़,
कानपुर - 7, उत्तर प्रदेश
8103492850

   

 

 

  धर्म के माता पिता का नाम व पता

श्रीमान बाबूलाल जी बोरा
श्रीमति ताराबाई जी बोरा
16, लक्ष्मी निवास, दत्त नगर, पेठ रोड़
पंचवटी, नासिक, महाराष्ट्र - 422003

9028307876
     

 

  आपकी सेवा में रहने वाले सेवक कि जानकारी
  8100371168
   

 

  साधु साध्वी का संदेश
यह चाहते है की कक्षा 5 वीं से लेकर कॉलेज तक जैन धर्म का एक विषय हो ताकि जन - जन तक धर्म का विस्तार हो। और हर गाँव की स्कूलों में एक रूम जैन साधू - साध्वी के लिए हो।