Shraman Sangh Muniji

Search Shraman Sangh Muniji

Feedback/Report Error

Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input

New Registration for Sadhu / Sadhvi

Phd Abstracts - 100% non-plagiarism guarantee of exclusive essays & papers. Proofreading and proofediting aid from best specialists. put out a Register

Shri Virag Muni Ji Maharaaj (श्री विराग मुनि जी म.सा.)

Brief Introduction

सामान्य विवरण
Shri Virag Muni Ji Maharaaj श्री विराग मुनि जी म.सा.
03-12-1982 आरूखर्क
पोखरा
नेपाल वाचनाचार्य उपाध्याय डॉ श्री विशाल मुनि जी म.सा.
श्रमण संघीय सलाहकार श्री सुमति प्रकाश जी म.सा. गुरु निहाल परिवार, आचार्य अमरसिंह जी म.सा.

12-03-2000, जामनेर ( महाराष्ट्र )
गुरुदेव श्री सुमति प्रकाश जी म.सा.


जैन सिद्धान्त आगम ( पूरे आगमों का अध्ययन अभी नहीं हुआ है ) बी.ए. प्रथम वर्ष, प्राकृत डिप्लोमा, विशारद



पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र    

 

  चातुर्मास विवरण तालिका

2000 - दुर्ग ( छतीसगढ़ )
2001 - उतम नगर ( दिल्ली )
2002 - मेरठ ( उतर प्रदेश )
2003 - जालंधर ( पंजाब )
2004 - ऋषभ विहार ( दिल्ली )
2005 - अरिहंत नगर ( दिल्ली )
2006 - जालंधर ( पंजाब )
2007 - फरीदकोट ( पंजाब )
2008 - भटिण्डा ( पंजाब )
2009 - पोखरा ( नेपाल )
2010 - पोखरा ( नेपाल )
2011 - मेरठ ( उतर प्रदेश )
2012 - प्रशान्त विहार ( दिल्ली )
2013 - पंजाबी बाग ( दिल्ली )
2014 - जैन नगर, मेरठ ( उतर प्रदेश )
2015 -
2016 -
2017 -

 

   

 

  आपकी प्रेरणा से संचालित संस्था का नाम, संस्था के पदाधिकारी का नाम, पद, शिक्षा, आयु व पता
   
   
   
   
   
   

 

अन्य विवरण


श्री राम कुमार सुबेदी ( शर्मा ) श्री मान फतिलाल जी सुबेदी
श्री मति पार्वती जी सुबेदी श्री ढाकाराम जी, श्री हेमराज जी, श्री नारायण जी ( श्री पुनीत मुनि जी ), श्री लक्ष्मण जी
श्री उजली पराजुली, श्री हरि ( कविता ) पराजुली भारद्धाज, ब्राह्मण
आरूखर्क गा.वि.स.
वार्ड नं. 4, सुबेदी थोक
9804107553, 97771577478

   

    

  धर्म के माता पिता का नाम व पता

 

श्री मान ईश्वर चन्द्र जी कोठारी
श्री मति तारा बाई कोठारी
जामनेर ( महाराष्ट्र )

 
   

 

  आपकी सेवा में रहने वाले सेवक कि जानकारी
 
     

 

  साधु साध्वी का संदेश

दूसरों को उपदेश देने से पहले उस उपदेश का पालन स्वयं करते है तो वह सार्थक है ।
दूसरों को सुधारने से पहले अपने आप मे सुधार जरूरी है ।