Shraman Sangh Muniji

Search Shraman Sangh Muniji

Feedback/Report Error

Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input

New Registration for Sadhu / Sadhvi

DLTK's see url Paper. Looking for a way to create themed writing paper? The next few steps will allow you to choose a theme for the top and bottom Register

Shri Satendra Muni Ji Maharaj (श्री सतेन्द्र मुनि जी म.सा.)

Brief Introduction

सामान्य विवरण
Shri Satendra Muni Ji Maharaj श्री सतेन्द्र मुनि जी म.सा.
23-09-1959 अल्टनराज
अल्टनराज पलामू
झारखण्ड उपाध्याय श्री रवीन्द्र मुनि जी म.सा.
परम सेवाभावी श्री प्रेमसुख जी म.सा. मंगल देशोद्धारक श्री जीवनराम जी म.सा.,आचार्य श्री सोहन लाल जी म.सा., श्री प्रेमसुख जी म.सा.
6 माह 03-05-1987, अक्षय तृतीया, इंद्रपूरी
उपप्रवर्तक संघ गौरव श्री प्रेमसुख जी म.सा. सेवाभावी श्री सोहम मुनि जी म.सा.

तप सम्राट, घोरतपस्वी, तपस्वीराज
प्रभाकर विशारद दसवीं


प्रेम की रहनी भाग्य की कलियाँ भाग्य कथा कोश
दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, जम्मू एड कश्मीर, उतराखण्ड, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश    

 

  चातुर्मास विवरण तालिका

1987 - आदर्श नगर
1988 - कोल्हापुर रोड
1989 - शालीमार बाग
1990 - देहारादून
1991 - देहारादून
1992 - देहारादून
1993 - इंदौर
1994 - गुड़गांव
1995 - देहारादून
1996 - देहारादून
1997 - देहारादून
1998 - लुधियाना
1999 - अम्बाला
2000 - लक्ष्मी नगर
2001 - सदर बाजार
2002 - अहिंसा विहार
2003 - इंदौर
2004 - गुड़गांव
2005 - चंडीगढ़
2006 - लुधियाना
2007 - देहारादून
2008 - करोल बाग
2009 - गुड़गांव
2010 - देहारादून
2011 - कालावाली
2012 - सिरसा
2013 - रायकोट
2014 - पंचकूला
2015 -
2016 -
2017 -

   

 

  आपकी प्रेरणा से संचालित संस्था का नाम, संस्था के पदाधिकारी का नाम, पद, शिक्षा, आयु व पता
   
   
   
   
   
   

 

अन्य विवरण

2 वर्षितप, 151, 55, 55 आयम्बिल देहारादून, 122, 71, 55, 55, 55, 55, 55 दिनों के आयम्बिल तपस्याएं
श्री सत्यदेव जी दुबे श्री मान रामसुन्दर जी दुबे
श्री मति फूलादेवी जी दुबे श्री नंदकिशोर जी, श्री रवीन्द्र जी दुबे
श्री अंबिका प्रसाद जी, श्री चंद्रीका जी, श्री कांता प्रसाद जी दुबे वंश मे सामान्य ब्राह्मण



   

 

  धर्म के माता पिता का नाम व पता

 

 
     

 

  आपकी सेवा में रहने वाले सेवक कि जानकारी
   
   

 

  साधु साध्वी का संदेश

सभी वीतराग पथ से सम्यक पथिक बने ।