Shraman Sangh Muniji

Search Shraman Sangh Muniji

Feedback/Report Error

Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input

New Registration for Sadhu / Sadhvi

http://www.liguebretagnebillard.fr/?how-to-start-my-personal-statement-for-university - Answers When youre writing a research essay you are data in order to come to some sort of conclusion about a Register

Shri Hitesh Muni Ji Maharaaj(श्री हितेश मुनि जी म.सा.)

Brief Introduction

सामान्य विवरण
Shri Hitesh Muni Ji Maharaaj श्री हितेश मुनि जी म.सा.
02-01-1986
 
रोहट
रोहट पाली
राजस्थान शेरे राजस्थान पूज्य प्रवर्तक श्री रुपचन्द जी म.सा."रजत"
शांतमूर्ति कविवर्य श्री मोतीलाल जी म.सा. मरुधर केशरी मिश्रीमल जी म.सा., युगप्रधान आचार्य सम्राट श्री रघुनाथ जी म.सा.
2 वर्ष 19-01-2000 पौष सुदी तेरस, जैतारण ( राजस्थान )
शेरे राजस्थान पूज्य प्रवर्तक श्री रुपचन्द जी म.सा."रजत"


दशवैकालिक सूत्र, उतराध्ययन सूत्र, अंतगढ़ सूत्र, कल्पसूत्र, भक्तांबर, कल्याण मंदिर, 12 थोकड़े, 5 शास्त्र वाचनी एम. ए. ( फिलोसोफी )


1. रजत वचन वाटिका
2. रूप रजत कैलेण्डर
राजस्थान, दिल्ली, गुजरात, पंजाब, हरियाणा, उतरांचल, हिमाचल प्रदेश,    

 

  चातुर्मास विवरण तालिका

2000 - उदयपुर
2001 - दिल्ली
2002 - सोजत सिटी
2003 - सूरत
2004 - कालु
2005 - बिलाड़ा
2006 - ब्यावर
2007 - कुशालपूरा
2008 - भीम
2009 - अहमदाबाद
2010 - सादडी
2011 - जसनगर
2012 - राणावास
2013 - भीलवाड़ा
2014 - नाडोल
2015 -
2016 -
2017 -

   

 

  आपकी प्रेरणा से संचालित संस्था का नाम, संस्था के पदाधिकारी का नाम, पद, शिक्षा, आयु व पता
   
   
   
   
   
   

 

अन्य विवरण
सफल शिविर ओर धार्मिक प्रतियोगिताऐ उपवास, बेला, तेला
श्री हसमुख जी गिरिया ( जैन ) श्री मान रुपचन्द जी गिरिया
श्री मति बिदामी देवी जी गिरिया श्री हुकमीचन्द जी, श्री भंवरलाल जी, श्री मोहन जी, श्री अनिल जी, श्री नवरतन जी, श्री प्रकाश जी
श्री शोभा जी, श्री नन्दा जी ओसवाल बड़ा साजन, गिरिया ( जैन )
श्री अनिल कुमार जी जैन
A,603 महावीर हाईटस, 6th फ्लोर,
न्यू पोसाड रोड, अमरोली, सूरत, गुजरात


   

 

  धर्म के माता पिता का नाम व पता

श्री मान शांतिलाल जी लुणावत
बेंगलोर

 
     

 

  आपकी सेवा में रहने वाले सेवक कि जानकारी
  9784198333
     

 

  साधु साध्वी का संदेश
कभी गुरु को यह मत बताओ कि हमारी समस्या विकट है, बल्कि समस्या को यह बताओ हमारे गुरु कितने निकट है ।