Shraman Sangh Muniji

Search Shraman Sangh Muniji

Feedback/Report Error

Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input

New Registration for Sadhu / Sadhvi

Shri Goutam Muni Ji Maharaaj 'Pratham'(श्री गौतम मुनि जी म.सा.'प्रथम')

Brief Introduction

सामान्य विवरण
Shri Goutam Muni Ji Maharaaj 'Pratham' श्री गौतम मुनि जी म.सा.'प्रथम'
 
जालना


महाराष्ट्र मेवाड़ भूषण परम पूज्य गुरुदेव श्री प्रतापमल जी म.सा.
वादीमान मर्दन दादा गुरुदेव श्री नंदलाल जी म.सा. हुक्मगच्छीय परम्परा मे जैन दिवाकर परम्परा ओर जैन दिवाकर परम पूज्य गुरुदेव चौथमल जी म.सा.
2 वर्ष विक्रम स. 2032, महाशुक्ल पंचमी, सिकन्द्राबाद
मेवाड़ भूषण परम पूज्य गुरुदेव श्री प्रतापमल जी म.सा. श्री वैभव मुनि जी म.सा., श्री शालीभद्र मुनि जी म.सा.

दक्षिण भूषण, उपप्रवर्तक, शास्त्रज्ञ, आगम ज्ञाता
जैनागम, दर्शन, न्याय, ज्योतिष, व्याकरण, कई जैनेत्तर साहित्य, ग्रंथ, टीका, भास्य आदि अनेकों ग्रन्थ विशारद, शास्त्री, सिद्धान्ताचार्य, साहित्य रत्न, एम.ए. हिन्दी मे


जैन दर्शन मे कर्मवाद भाग 1 से 6 तक
प्रदार्थ संदोह
दण्डक संहिता
आगम की किरणे
समाधान का सागर
जिज्ञासा का समाधान
आदि 60 पुस्तके ।
राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, महाराष्ट्र, आन्ध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, तमिलनाडु    

 

  चातुर्मास विवरण तालिका

1976 -
1977 -
1978 -
1979 -
1980 -
1981 -
1982 -
1983 -
1984 -
1985 -
1986 -
1987 -
1988 -
1989 -
1990 -
1991 -
1992 -
1993 -
1994 -
1995 -
1996 -
1997 -
1998 -
1999 -
2000 -
2001 -
2002 -
2003 -
2004 -
2005 -
2006 -
2007 -
2008 -
2009 -
2010 -
2011 -
2012 -
2013 -
2014 -
2015 -
2016 -
2017 -

   

 

आपकी प्रेरणा से संचालित संस्था का नाम, संस्था के पदाधिकारी का नाम, पद, शिक्षा, आयु व पता
10-12 जैन स्थानक कोई भी संस्था को प्रेरणा देकर विरक्त हो जाते है, कोई भी जिम्मेदारी नहीं लेते । प्रेरणा देकर पदाधिकारियों के विश्वास पर छोड़ देते है ।


10-12 हॉस्पिटल, क्लिनिक आदि मेवाड़ भवन, हैदराबाद ( सिकन्दराबाद ) गतिमान


स्कूल ( वर्किंग प्रोग्रैस )


 

अन्य विवरण
1. सैकड़ो जैनेतर को जिनत्व से जोड़े गये । 2. प्रतिवर्ष सैकड़ो की संख्या मे भिक्षुदया, पौषध, तपस्या ( सामुहिक ), 3. सामयिक, स्वाध्याय, प्रत्याख्यान आदि प्रेरणा, 4. व्याख्यान में सबकों ( श्रोताओ ) मुखवस्त्रिका और सामयिक गणवेश, 5. माता - बहनों को खुले सिर न बैठ
श्री दिनेश जी गोहेल श्री मान केशव जी गोहेल
श्री मति मणिबेन जी गोहेल श्री विनोद जी, श्री मनसुख जी


जालना, महाराष्ट्र

   

 

  धर्म के माता पिता का नाम व पता

संयम प्रेरक धर्ममाता स्व. श्री मति जड़ावबाई जी गोलेच्छा
दीक्षार्थी माता - पिता
श्री मति शोभाबाई लुणकरण जी बोहरा, सिकंदराबाद

 

 
     

 

  आपकी सेवा में रहने वाले सेवक कि जानकारी
   
ई मेल    

 

  साधु साध्वी का संदेश

1. स्थानकवासी सिद्धांतों को सुद्दढ़ करना ।
2. घर - घर में धर्म प्रचार करना ।