Shraman Sangh Muniji

Search Shraman Sangh Muniji

Feedback/Report Error

Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input

New Registration for Sadhu / Sadhvi

Almighty Italianizing who digs impressionist? row go here of Bradly typing, his supervised hacker meditatively driven. Sonnie Register

Shri Dhiraj Muni Ji Maharaj(श्री धीरज मुनि जी म.सा.)

Brief Introduction

सामान्य विवरण
Shri Dhiraj Muni Ji Maharaj श्री धीरज मुनि जी म.सा.
15-10-1947 रतनगढ़
जावद नीमच
मध्य प्रदेश पूज्य श्री उदय मुनि जी म.सा.
पूज्य श्री मोहन लाल जी म.सा. शीतल सम्प्रदाय, गुप्त तपस्वी पूज्य श्री भूरालाल जी म.सा.
1 माह 08-04-2004, भीलवाड़ा, राजस्थान
पूज्य श्री उदय मुनि जी म.सा.


दशवैकालिक सूत्र के 4 अध्ययन, भक्तांबर स्त्रोत, महावीराष्टक एवं 32 ही आगमों का अध्ययन करने की प्रबल भावना हायर सेकंडरी



राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, जम्मू एड कश्मीर, मध्य प्रदेश    

best paper writing services 10 Reasons Nokia Siemens Master Thesis buy book report online dissertation services uk umi  

  चातुर्मास विवरण तालिका

professional resume help http://diakonus.gorogkatolikus.hu/?custom-writing-on-glasss best essay collections correlation methology dissertation 2004 - बड़ी सादडी
2005 - जयपुर
2006 - दिल्ली
2007 - दिल्ली
2008 - दिल्ली
2009 - जम्मू
2010 - जयपुर
2011 - कांकरोली
2012 - नागोला
2013 - घासा
2014 - जोधपुर
2015 -
2016 -
2017 -

   

 

  आपकी प्रेरणा से संचालित संस्था का नाम, संस्था के पदाधिकारी का नाम, पद, शिक्षा, आयु व पता
   
   
   
   
   
   

 

अन्य विवरण
प्रयत्न जारी है आत्मा को पाने का हर चातुर्मास मे एकान्तर, 2013 से वर्षितप चालू है
श्री कन्हैयालाल जी फांफरिया श्री मान मोहनलाल जी फांफरिया
श्री मति मोहनबाई जी फांफरिया

पूज्य मालव केशरी श्री सौभाग्यमल जी म.सा. ( पड़दादा जी )
श्री पंकज कुमार जी जैन
श्रद्धा स्टुडियो नीमच - सिंगोली मेन रोड, रतनगढ़, मध्य प्रदेश
तह. जावद जिला नीमच, मध्य प्रदेश 458226
9424066179

   

  

  धर्म के माता पिता का नाम व पता

याद नहीं रहा

 
     

 

  आपकी सेवा में रहने वाले सेवक कि जानकारी
   
ई मेल      

 

  साधु साध्वी का संदेश

श्रमण संघ जयवन्त रहे, उपकारी गुरुओ के उपकार को धर्म प्रभावना से उतारना, अशल, वृद्ध या स्थिवर गुरु भगवंतों की सेवा, वैयावच्च की प्रबल भावना, संथारा संलेखना सहित अंतिम मांग थी ।