Shraman Sangh Muniji

Search Shraman Sangh Muniji

Feedback/Report Error

Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input

New Registration for Sadhu / Sadhvi

see - Proofreading and proofediting services from top specialists. Fast and trustworthy services from industry top company. put out a little Register

Maharashtra Keshari Shri Parag Muni Ji Maharaj(महाराष्ट्र केशरी श्री पराग मुनि जी म.सा.)

Brief Introduction

सामान्य विवरण
Maharashtra Keshari Shri Parag Muni Ji Maharaj महाराष्ट्र केशरी श्री पराग मुनि जी म.सा.
11-06-1982
 
औरंगाबाद

औरंगाबाद
महाराष्ट्र नवकार साधक गुरुदेव श्री विचक्षण मुनि जी म.सा.
श्री विशाल मुनि जी म.सा. गुरु निहाल परिवार


आचार्य सम्राट श्री शिव मुनि जी म.सा., दादा गुरु पूज्य श्री सुमति प्रकाश जी म.सा.

महाराष्ट्र केशरी, तप रत्नाकर, धर्मवीर
विशारद एम. ए. जैन विश्व भारती, लाड़नू




 
चातुर्मास विवरण तालिका
2002 - सिरसा ( हरियाणा )
2003 - रूपनगर
2004 - मेरठ
2005 - पानीपत
2006 - जालंधर
2007 - ब्यावर
2008 - सूरत
2009 - औरंगाबाद
2010 - लातूर
2011 - मुम्बई
2012 - महावीर प्र. ( पुना )
2013 - सादडी भवन ( पुना )
2014 - सिकन्दराबाद
2015 - औरंगाबाद
2016 -
2017 -
   

SmartWritingServcie is one of enter site which is committed to hire professional ghostwriters only to produce custom term papers  

  आपकी प्रेरणा से संचालित संस्था का नाम, संस्था के पदाधिकारी का नाम, पद, शिक्षा, आयु व पता
   
   
   
   
   
   

Professional Custom Essay Writing Service online in UK by MHR Writer to gain cost effective assistance from online experts help. Buying best quality essays has never been an easy job.  

  अन्य विवरण
  8,11 आदि एवम 2005 से वर्धमान अयंबिल तप प्रारम्भ है । अब तक 52 लड़िया पूर्ण हुई है ।
 श्री आशीष मनोहर लाल जी भंसाली श्री मान मनोहर लाल जी भंसाली
श्री माती चंदा जी भंसाली श्री आतिश जी, श्री अमित जी
श्री वंदना जी दादा - दादी, नाना - नानी, बुआ, माता - पिता, तीनों भाई बहन जिनशासन मे दीक्षित है ।

 

 
     

 

  धर्म के माता पिता का नाम व पता
   
     

 

  आपकी सेवा में रहने वाले सेवक कि जानकारी
   
     

 

  साधु साध्वी का संदेश

सभी के प्रति मंगल कामनाए ।
मन मे किसी के प्रति भी द्धेष को गाठ ना रहे ।
यही सदभावनाए ।