Shraman Sangh Muniji

Search Shraman Sangh Muniji

Feedback/Report Error

Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input
Invalid Input

New Registration for Sadhu / Sadhvi

how to write an admission essay plan see url purpose of writing term paper do kids get tests for homework Register

Agam Gyata Dr. Shri Samkit Muni Ji Maharaaj(आगम ज्ञाता डॉ श्री समकित मुनि जी म.सा.)

Brief Introduction

 सामान्य विवरण
Agam Gyata Dr. Shri Samkit Muni Ji Maharaaj आगम ज्ञाता डॉ श्री समकित मुनि जी म.सा.
10-07-1976
 
खजवाना
नागौर
राजस्थान राजर्षि, भीष्म पितामह गुरुदेव श्री सुमति प्रकाश जी म.सा.
उतर भारत के प्रथम प्रवर्तक पूज्य श्री शान्ति स्वरूप जी म.सा. गुरु निहाल परिवार (पंजाब ), घोर तपस्वी स्वामी श्री निहाल चन्द जी म.सा.
2 वर्ष 27-01-2002, खजवाना ( राजस्थान )
महाराष्ट्र प्रवर्तक पूज्य श्री कुन्दन ऋषि जी म.सा. उदीयमान संत श्री भवांत मुनि जी म.सा.
प्रवचन कुशल, आगम ज्ञाता
आगमों का अध्ययन बी.कॉम., एम.ए., पी.एच.डी.
2013, जैन विश्व भारती विश्व विघालय,लाड़नूं व्यवहार भाष्य का सांस्कृतिक अध्ययन
1. मेरी भी सुनों ( प्रवचन संकलन )
2. आखिर ऐसा क्यों ? ( धार्मिक प्रश्नोतर )
3. आर्ट ऑफ लाइफ ( जीवनोपयोगी पुस्तिका )
4. विशाल समाधान ( धार्मिक प्रश्नोतर )
5. नई सुबह जरूर आयेगी ( समसमायिक चिंतन )
राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू एड कश्मीर, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, उतराखण्ड  
चातुर्मास विवरण तालिका
2002 - जम्मू
2003 - अम्बाला
2004 - दिल्ली
2005 - पानीपत
2006 - अमृतसर
2007 - गन्नौर
2008 - बड़ौत
2009 - रोहतक
2010 - मेरठ
2011 -
2012 -
2013 -
2014 -
2015 -
2016 -
2017 -
   

 

  आपकी प्रेरणा से संचालित संस्था का नाम, संस्था के पदाधिकारी का नाम, पद, शिक्षा, आयु व पता
     
     
   
   
   
     

 

  अन्य विवरण
विशेष नहीं विशेष नहीं
श्री जितेन्द्र कोठारी ( ओसवाल जैन ) श्री मान रीखबचन्द जी कोठारी
श्री मति सज्जन कंवर जी कोठारी श्री चंदनमल जी कोठारी
       ओसवाल, सुसंस्कारित परिवार, धर्म के प्रति अथाह श्रद्धा

श्री रवीन्द्र कुमार कोठारी

112, गिरी विहार, पोस्ट नंदूरबार,
( महाराष्ट्र )

9822546167
      

 

  धर्म के माता पिता का नाम व पता
       
           

 

  आपकी सेवा में रहने वाले सेवक कि जानकारी
       
           

 

  साधु साध्वी का संदेश
संघ एवं आचार्य के प्रति सदैव कृतज्ञता के भाव बने रहने चाहिये ।